Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

जब फिल्में छोड़ संन्यासी बन गए थे विनोद खन्ना, ओशो के आश्रम में करते थे टॉयलेट की सफाई

जब फिल्में छोड़ संन्यासी बन गए थे विनोद खन्ना, ओशो के आश्रम में करते थे टॉयलेट की सफाई

<-- ADVERTISEMENT -->

बॉलीवुड के जाने-माने अभिनेता विनोद खन्ना का जन्म 6 अक्टूबर 1946 को पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था. उन्होंने बॉलीवुड में काफी ऊंचा मुकाम हासिल किया. विनोद खन्ना के जीवन से जुड़े ऐसे कई किस्से हैं जो बहुत से लोग नहीं जानते. विनोद खन्ना फिल्मों को छोड़कर संन्यासी बन गए. हालांकि उन्होंने फिर से फिल्मी दुनिया में वापसी की.


विनोद खन्ना ने पहले विलेन का किरदार निभा कर लोगों को डराया. लेकिन बाद में उन्होंने अपने किरदारों से सबका दिल जीत लिया. जब उन्होंने संन्यासी बनने का निर्णय किया था तो किसी को भी विश्वास नहीं हुआ था. 70 के दशक में विनोद खन्ना ओशो से बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने 1975 के ठीक आखिरी दिन संन्यास ले लिया और वह आचार्य रजनीश के आश्रम में चले गए.


विनोद खन्ना सोमवार से लेकर शुक्रवार तक फिल्मों से जुड़े काम करते. जबकि हफ्ते के आखिरी 2 दिन में ओशो के आश्रम में गुजारते थे. एक इंटरव्यू में विनोद खन्ना ने बताया था कि मैं ओशो के बगीचे (अमेरिका) की रखवाली करता था. मैं टॉयलेट की सफाई करता था. मैं खाना बनाता था और उनके कपड़े मुझ पर ट्राय कराए जाते थे, क्योंकि हमारी कद काठी बिल्कुल एक जैसी थी.


बता दें कि संन्यास से वापस आने के बाद विनोद खन्ना ने फिर से फिल्मी दुनिया में कमबैक किया और वह सफल भी साबित हुए. इसके बाद उन्होंने राजनीति में भी हाथ आजमाया.

दोस्तों आपको विनोद खन्ना की कौन सी फिल्म सबसे ज्यादा अच्छी लगती है, कमेंट करके जरूर बताएं.
Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

Reactions:

bollywood celebs

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: