Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

--Advertisement--

जब कई दिनों तक जावेद अख्तर को रहना पड़ा था भूखा, शबाना आजमी ने पति के संघर्ष के दिनों को किया याद

जब कई दिनों तक जावेद अख्तर को रहना पड़ा था भूखा, शबाना आजमी ने पति के संघर्ष के दिनों को किया याद

<-- ADVERTISEMENT -->

मशहूर राइटर और गीतकार जावेद अख्तर ने 70 और 80 के दशक में सलीम खान के साथ मिलकर शोले, जंजीर, दीवार और हाथी मेरे साथी जैसी कई फिल्मों के डायलॉग्स और कहानियां लिखी. जावेद अख्तर ने 1964 में अपने करियर की शुरुआत की थी. लेकिन इस मुकाम तक पहुंचने में उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा.


हाल ही में जावेद अख्तर की पत्नी शबाना आजमी ने उनके संघर्ष के दिनों का जिक्र किया. शबाना आजमी ने ट्वीट कर लिखा- आज ही के दिन 55 साल पहले तक 19 साल का लड़का मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर उतरा था. हाथों में 27 रुपये और आंखों में सपने लिए जावेद अख्तर फुटपाथ पर सोए. 4-4 दिनों तक भूखे रहे. लेकिन उन्हें खुद पर पूरा भरोसा था. यह कहानी मुश्किलों के आगे हार ना मानने वाले की है. मैं आपको सलूट करती हूं.


बता दें कि जावेद अख्तर के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री में सफलता पाना बहुत ही मुश्किल रहा. उन्हें काफी संघर्ष भी करना पड़ा. वह एक बार अपनी स्क्रिप्ट लेकर किसी प्रोड्यूसर के पास गए थे और प्रोड्यूसर को स्क्रिप्ट इतनी बकवास लगी कि उसने जावेद अख्तर के मुंह पर ही स्क्रिप्ट के पन्ने फेंक दिए और कहा कि तुम कभी लेखक नहीं बन सकते.


जावेद अख्तर ने बॉलीवुड में कई बेहतरीन फिल्में की कहानियां लिखी है. जावेद अख्तर ने फिल्म दोस्ताना के लिए अमिताभ बच्चन से ज्यादा फीस ली थी. जावेद अख्तर को आठ बार फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है. उन्हें पांच बार बेस्ट लिरिक्स के लिए नेशनल अवॉर्ड भी मिल चुका है. इसके अलावा उन्हें पद्म श्री और पद्म भूषण पुरस्कार भी मिल चुके हैं.

दोस्तों आप बॉलीवुड के किस कलाकार के फैन है, कमेंट करके जरूर बताएं.
Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

Reactions:

bollywood celebs

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: