Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

--Advertisement--

नहीं है हाथ फिर भी पैरों पर से चलाती है फोटोकॉपी की दुकान, अमिताभ खुद लिखते हैं चिठ्ठियां, जाने इसे

पैरो से चलाती हैं फोटोकॉपी की दूकान, खुद अमिताभ बच्चन लिखते हैं चिट्ठी

<-- ADVERTISEMENT -->


हर किसी की जिंदगी में परेशानियां जरूर होती है। जो परेशानियों का सामना करता है वह जिंदगी में सफल हो जाता है। लेकिन जो परेशानियों से हार मान लेता है वह जिंदगी में कभी भी सफल नहीं होता। आज हम आपको इस पोस्ट में एक ऐसी लड़की की कहानी बताने जा रहे हैं जिसका शरीर का 80 फिसदी हिस्सा दिव्यांग है। लेकिन फिर भी वह लड़की घर पर हाथ पर हाथ धरे खाली नहीं बैठती है। उस लड़की की एक फोटोकॉपी की दुकान है जिसे वह शान से चलाती है।


हम जिस लड़की की बात कर रहे हैं वह गुजरात के जैतपुर की निवासी है। उस लड़की का नाम वंदना कटारिया है। अगर आप वंदना कटारिया की दुकान में जाएंगे तो आपको उसकी दुकान में अमिताभ बच्चन एवं उनके परिवार के सदस्यों की तस्वीरें दिखाई देंगी। वंदना कटारिया अमिताभ बच्चन और उनके परिवार की बहुत बड़ी फैन है। वह अमिताभ बच्चन और उनके परिवार वालों के लिए चिठ्ठियां लिखती रहती है।


खास बात तो यह है कि अमिताभ बच्चन और उनके परिवार वाले इन चिठ्ठियों का रिप्लाई भी देते हैं। वंदना कटारिया के जीवन में सबसे बड़ी परेशानी यह है कि वह अपने हाथ पैरों का प्रयोग नहीं कर सकती। लेकिन फिर भी वह काफी अच्छे तरीके से फोटोकॉपी की दुकान को संभालती है। वह फोटोकॉपी की मशीन और कंप्यूटर को पैरों से ऑपरेट करती है। वह हाथों की स्पीड से सब काम करती है। वंदना की दुकान पर आने वाले सभी कस्टमर वंदना को देखकर हैरान रह जाते हैं और हर कोई उसकी तारीफ करता है।

वंदना कटारिया का सबसे बड़े सपना अमिताभ बच्चन से मिलने का है। वो अमिताभ बच्चन को अपनी आंखों के सामने देखना चाहती है। जिस तरह से अमिताभ बच्चन, वंदना कटारिया की चिट्ठियों का जवाब देते हैं, उसे लगता है कि एक ना एक दिन जरूर वंदना और अमिताभ बच्चन की मुलाकात होगी।
Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

Reactions:

bollywood celebs

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: