Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

--Advertisement--

मधुबाला की एक तस्वीर ने बदल डाली थी यश जौहर की किस्मत, मिठाई की दुकान चलाते-चलाते इस तरह पहुंचे मुंबई

मधुबाला की एक तस्वीर ने यश जौहर की बदल दी थी किस्मत, मिठाई की दुकान से ऐसे पहुंच गए बॉलीवुड

<-- ADVERTISEMENT -->

बॉलीवुड के जाने माने निर्माता यश जौहर की फिल्में आज भी दर्शकों को याद है। बता दें कि 26 जून को उनका जन्मदिन होता है। आज की पोस्ट में हम आपको यश जौहर से जुड़ी दिलचस्प बातें आपको बताने जा रहे।
26 जून 1929 में यश जौहर का जन्म लाहौर में हुआ। भारत का विभाजन हुआ तो यश जौहर अपने परिवार के साथ दिल्ली आ गए। उनके पिता ‘नानकिंग स्वीट्स’ नाम से मिठाई की दुकान चलाते थे। यश जौहर अपने 9 भाई बहन में सबसे ज्यादा पढ़े लिखे थे। इसी कारण उनको दुकान पर बैठने का काम मिला। लेकिन यश जौहर को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं था। जब यश जौहर की मां को इस बात का पता लगा तो उन्होंने अपने बेटे से कहा कि तुमको यह काम संभालने की कोई जरूरत नहीं है। तुम मुंबई चले जाओ। यश जौहर के मुंबई जाने से पहले ही उनकी मां गहने और पैसे गायब कर चुकी थी। चोरी का शक सिक्योरिटी बालों पर गया जिस कारण उनकी पिटाई भी हुई। लेकिन चोरी तो यश जौहर की मां ने की थी क्योंकि वह अपने बेटे को मुंबई भेजना चाहती थी।
जब यश जौहर मुंबई पहुंच गए तो उन्हें टाइम्स ऑफ इंडिया न्यूज़ पेपर में फोटोग्राफर बनने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। उस वक्त फिल्म मुग़ल-ए-आज़म की शूटिंग चल रही थी। इस दौरान उन्होंने फिल्म के सेट से मधुबाला की तस्वीर खींच ली। बताया जाता है कि मधुबाला किसी को भी अपनी तस्वीर लेने नहीं देती थी। हालांकि यश जौहर बहुत ज्यादा पढ़े लिखे थे और वे फटाफट इंग्लिश बोलते थे। मधुबाला यश जौहर से इंप्रेस हो गई और उनको अपनी तस्वीर लेने की परमिशन दे दी। वह यश जौहर को अपने गार्डन भी घुमा लाई।
तस्वीर मिलने के बाद यश जौहर की किस्मत पूरी तरह से बदल गई। उनको ऑफिस में नौकरी मिल गई। बता दे कि यश जौहर की बतौर निर्माता पहली फिल्म दोस्ताना थी जिसमें अमिताभ बच्चन और शत्रुघ्न सिन्हा मुख्य भूमिका में थे। हालांकि इसके बाद उनकी ज्यादा फिल्में सफल नहीं हुई। इसी कारण वे फिल्म प्रोड्यूस करने के अलावा इंपोर्ट एक्सपोर्ट का व्यवसाय भी करते थे।
Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

Reactions:

bollywood celebs

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: