Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

--Advertisement--

इंटरव्यू में अपनी आवाज रिकॉर्ड नहीं करने देते थे अमरीश पुरी, उनकी लाइफ के 3 किस्से

इंटरव्यू में अपनी आवाज रिकॉर्ड नहीं करने देते थे अमरीश पुरी, उनकी लाइफ के 3 किस्से

<-- ADVERTISEMENT -->

22 जून को अमरीश पुरी की 87वीं जन्मतिथि था  अमरीश पुरी अपने जमाने के सबसे लोकप्रिय विलेन थे। पुरी साहब कभी वीडियो-ऑडियो इंटरव्यू नहीं देते थे। उनकी जो भी फुटेज है वो सिर्फ शूटिंग के दौरान ली गई है। इसके अलावा अखबारों या मैगजीन को भी उन्होंने अपनी आवाज रिकॉर्ड ना करने की हिदायत दे रखी थी। दरअसल, पुरी साहब का मानना था की लोगो उनकी आवाज सिर्फ फिल्मों में ही सुने। ऐसे में इंटरव्यू देने से पहले वे उनका रिकॉर्डर बंद करवा देते थे। इसके अलावा पुरी साहब तभी इंटरव्यू देते थे जब उनकी स्टोरी को कवर पेज पर जगह मिले।

अमरीश पुरी जिंदगी से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से बताने जा रहे है

1. मुंहमांगी फीस नहीं मिली तो पुरी साहब ने छोड़ दी थी फिल्म

पुरी साहब ने अपना करियर नेगेटिव रोल से शुरू किया था। लेकिन 90 के दशक में उन्होंने कई फिल्मों में पॉजिटिव के किरदार भी निभाए। उस दौरान इंडस्ट्री में उनका कद काफी बढ़ चुका था। इसलिए मुंहमांगी फीस नहीं मिलने पर वे फिल्म में काम करने से मना कर देते थे। साल 1998 में पुरी साहब ने अपने एक इंटरव्यू में इस बात का जिक्र किया था। दरअसल, उन्होंने एन. एन. सिप्पी की एक फिल्म के लिए 80 लाख रुपए की मांग की थी। लेकिन जब उन्हें ये फीस नहीं मिली तो उन्होंने फिल्म ही छोड़ दी थी।

2. रील लाइफ के विलेन, रियल में हीरो थे

डायरेक्टर श्याम बेनेगल ने एक इंटरव्यू में पुरी साहब के बारे में बताया, 'एक बार हमारे एक दोस्त और उसकी फैमिली का एक्सीडेंट हो गया। पत्नी सरवाइव कर गई, लेकिन दोस्त और उसका बेटा क्रिटिकल थे। हॉस्पिटल में उनके लिए रेयर ब्लड ग्रुप की जरूरत पड़ी, जो कि अमरीश का ग्रुप भी था। दोस्त से परिचय ना होने के बावजूद वो अस्पताल पहुंचकर डॉक्टर्स से बोले की वे ब्लड देना चाहते है। दुर्भाग्य से दोस्त और उसका बेटा बचे नहीं। लेकिन बिना किसी के कहे अमरीश का ब्लड देना मुझे आज भी याद है।'

3. जब श्याम बेनेगल ने दिया निशांत में काम

पुरी साहब फिल्मों में आने से पहले लाइफ इंश्योरेंस एजेंट हुआ करते थे। श्याम बेनेगल कहते है की उन्होंने अपनी पहली फिल्म 'अंकुर' के लिए एक एक्टर को कास्ट किया था। लेकिन वो सही तरिके से डायलॉग नहीं बोल पा रहा था। इसलिए श्याम बेनेगल ने पुरी साहब से उस लड़के के डायलॉग डब करवाए थे। इसके बाद जब उन्होंने निशांत बनाई तो उसमें पुरी साहब को कास्ट कर लिया। निशांत में पुरी साहब का काम लोगो को बहुत पसंद आया और वे इंडस्ट्री में लोकप्रिय हो गए।
Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

Reactions:

bollywood celebs

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: