आर्थिक स्थिति मजबूत करने के साथ आपकी किस्मत बदल देंगे इलायची के ये अचूक टोटके! - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

आर्थिक स्थिति मजबूत करने के साथ आपकी किस्मत बदल देंगे इलायची के ये अचूक टोटके!


<-- ADVERTISEMENT -->



 
भारतीय रसोई में हरी इलायची खासतौर पर इस्तेमाल की जाती है। यह मसाला चाय का स्वाद बढ़ाने के साथ किस्मत चमकाने का काम भी करता है। जी हां, ज्योतिष व वास्तुशास्त्र अनुसार, हरी इलायची के कुछ खास कारगर उपाय करने से धन व जीवन से जुड़ी कुछ समस्याओं से बचा जा सकता है। चलिए जानते हैं इस छोटे-छोटे मगर कारगर उपायों के बारे में...


1. अपने पर्स या पैसे रखने वाली जगह पर 5 हरी इलायची रख दें। मान्यता है कि इससे आर्थिक संकट और पैसा ना टिकने की परेशानी दूर होती है। आय में वृद्धि होने के साथ खर्चों में कमी आती है।


2. अगर आप पैसों की किल्लत से परेशान है तो किसी दरिद्र असहाय या किन्नर को एक सिक्का और हरी इलायची दान करें। मान्यता है कि नियमित रूप से इस उपाय के करने से घर की दरिद्रता दूर होती है। साथ ही घर में सुख-समृद्धि, शांति व खुशहाली का वास होता है।


3. अगर आप नौकरी में प्रोमशन चाहते हैं ते हरे रंग के कपड़े में 1 इलायची बांधकर तकिए के नीचे रखकर सो जाए। अगली सुबह उसे किसी व्यक्ति को दे दीजिए। वास्तु अनुसार, इस उपाय से नौकरी में तरक्की होने की संभावना बढ़ती है।


4. एक लोटे पानी में 2 इलायची डालकर उसे आधा होने तक उबालें। इसके बाद इस मिश्रण को नहाने के पानी में मिलाकर नहाएं। स्नान करते दौरान 'ओम जयंती मंगला काली भद्रकाली' मंत्र का जाप करें। मान्यता है कि ऐसा करने से कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत होता है।


5. किसी भी महीने की शुक्ल पक्ष के वीरवार को सूर्यास्त से पहले बरगद के पत्ते पर पांच अलग-अलग तरह की मिठाइयां और दो इलायची रखें। फिर इसे पीपल के वृक्ष के नीचे रखकर शिक्षा में सफलता के लिए प्रार्थना करें। इस बात का ध्यान रखें कि आपको बिना पीछे मुड़कर ही घर वापस जाना है। लगातार 3 गुरुवार इस उपाय को करने से आपको लाभ हो सकता है।


6. अगर आप किसी जरूरी काम से जा रहे हैं तो 3 इलायची को दाएं हाथ की मुट्ठी में रखकर 'श्री श्री' बोलकर उसे खोल लें। इसके बाद इसे खाकर ही घर से बाहर निकलें। मान्यता है कि ऐसा करने से सफलता के रास्ते खुलते हैं।




<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

FirPost

Offbeat

Post A Comment:

0 comments: