क्यों हेमामालिनी को खाने पड़े थे 20 थप्पड़ - BackToBollywood

Blog Archive

Search This Blog

क्यों हेमामालिनी को खाने पड़े थे 20 थप्पड़


<-- ADVERTISEMENT -->



बात की जाए हेमा मालिनी की तो वह 1968 तक बॉलीवुड के संघर्ष का हिस्सा रहीं। इसके बाद उन्हें फिल्म सपनों के सौदागर में राजकुमार के साथ कास्ट किया गया। इस फिल्म को लेकर दर्शकों में उत्साह कायम करने के लिए उन्हें ड्रीम गर्ल के रूप में पेश किया गया। बदकिस्मती से फिल्म दर्शकों को कुछ खास पसंद नहीं आई। लेकिन हेमा मालिनी ड्रीम गर्ल के रूप में हमेशा के लिए प्रसिद्ध हो गयीं। इसके बाद उन्होनें कई फिल्मों में काम किया। उनके चुलबुले अंदाज को देखते हुए उन्हें फिल्म शोले में चुना गया। शोले में उनका बंसती का किरदार उनके अभिनय करियर का लैंडमार्क किरदार रहा।

लेकिन एक ऐसा मौका आया जब हेमा मालिनी को एक के बाद एक बीस थप्पड़ खाने पड़े। आखिर क्या वजह थी इसके पीछे आइए जानते हैं। उन दिनों डायरेक्टर प्रेम सागर हेमा मालिनी को लेकर एक फिल्म बना रहे थे। जिसका नाम था ‘हम तेरे आशिक।‘ इस फिल्म में हेमा मालिनी बतौर मुख्य अभिनेत्री नजर आईं थी।

999558-arvind-trivedi.jpg

इसी फिल्म में मशहूर टीवी सीरियल रामायण में रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिपाठी को भी बतौर नेगेटिव एक्टर चुना गया था। एक सीन में अरविंद त्रिपाठी को हेमा मालिनी को थप्पड़ मारना था। इस सीन को लेकर अरविंद बेहद नर्वस थे। एक इंटरव्यू में डायरेक्टर प्रेम सागर ने बताया था कि अरविंद इस सीन को लेकर बेहद डरे हुए थे। उन्होनें इस सीन को करने में 20 टेक लिये और हेमामालिनी को सीन के लिए 20 थप्पड़ खाने पड़े थे। इसके अलावा अरविंद त्रिपाठी को डायरेक्टर ने कई बार समझाया तब जाकर यह सीन फाइनल हो सका था।

हाल ही में रामायण के इस चर्चित पात्र अरविंद त्रिपाठी का निधन हो गया। उन्होनें रामानंद सागर की रामायण में रावण का जीवंत चित्रण करके इस सीरियल को ऐतहासिक बनाने का काम किया था। जो बाद में दूरदर्शन पर धारावाहिक के रूप में प्रस्तुत की गई थी। प्रेम सागर रामानंद सागर के ही बेटे थे। प्रेम सागर बताते है कि अरविंद को रावण के किरदार के लिए एक गुजराती नाटक मंच से चुना गया था। इस फिल्म के अलावा भी अरविंद त्रिपाठी ने कई और फिल्मों में काम किया। लेकिन उन्हें आज भी केवल रावण के किरदार के लिए जाना जाता है।




<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

Entertainment

Post A Comment:

0 comments: