महात्मा गांधी के अहिंसा के मंत्र का कंगना रनौत ने उड़ाया मज़ाक? कहा दूसरा गाल आगे करने से आज़ादी नहीं ‘भीख’ मिलती है! - BackToBollywood

Blog Archive

Search This Blog

महात्मा गांधी के अहिंसा के मंत्र का कंगना रनौत ने उड़ाया मज़ाक? कहा दूसरा गाल आगे करने से आज़ादी नहीं ‘भीख’ मिलती है!


<-- ADVERTISEMENT -->



मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर एक ताजा वीडियो शेयर करके ताजा विवाज खड़ा कर दिया है। कंगना रनौत ने अपने 'भीख में आजादी' वाले बयान पर कायम रही और इसके साथ ही उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ भारत के स्वतंत्रता संग्राम पर अपनी कई तरह की और बातें की। कंगना ने  महात्मा गांधी और सुभाष चंद्र बोस को लेकर एक नया बयान दिया है जिसे लेकर भी राजनीति हो रही है। उन्होंने 1940 के दशक के एक पुराने अखबार के लेख के एक शीर्षक के साथ साझा किया, जिसमें लिखा था, गांधी जी समेत अन्य नेताओं ने भी आजादी की लड़ाई की कमान को नेता जी  सुभाष चंद्र बोस को सौंपने का समर्थन किया था। 

 महात्मा गांधी के अहिंसा के मंत्र का कंगना रनौत ने उड़ाया मज़ाक?

अभिनेत्री कंगना रनौत ने मंगलवार को एक नए विवाद को जन्म देते हुए दावा किया कि सुभाष चंद्र बोस और भगत सिंह को महात्मा गांधी से कोई समर्थन नहीं मिला। उन्होंने महात्मा गांधी के अहिंसा के मंत्र का मज़ाक उड़ाते हुए कहा कि दूसरा गाल आगे करने से ‘भीख’ मिलती है न कि आज़ादी। रनौत ने पिछले हफ्ते कहा था कि 1947 में भारत को आज़ादी नहीं, बल्कि ‘भीख’ मिली थी, असली स्वतंत्रता 2014 में मिली जब नरेंद्र मोदी की सरकार सत्ता में आई। रनौत ने ‘इंस्ट्राग्राम’ पर एक के बाद एक कई पोस्ट कर महात्मा गांधी को निशाना बनाया और कहा कि ‘अपने नायकों को समझदारी से चुनो।”

इसे भी पढ़ें: शहनाज की यादों में सिद्धार्थ शुक्ला, पोस्ट किया नया वीडियो, फैंस ने कहा- Sherni is backkk 

 अखबार साक्षी है कि गांधी समेत अन्य नेताओं ने लड़ाई की कमान नेता जी को सौंपने का समर्थन किया था

अभिनेत्री ने एक अखबार की पुरानी कतरन साझा की है जिसकी सुर्खी है, “गांधी, अन्य नेताजी को सौंपने के लिए सहमत हुए थे।” खबर में दावा किया गया है कि गांधी, जवाहरलाल नेहरू और मोहम्मद अली जिन्ना की एक ब्रिटिश न्यायाधीश के साथ सहमति बनी थी कि यदि बोस देश में प्रवेश करते हैं तो वे उन्हें सौंप देंगे। रनौत ने अखबार की कतरन के साथ लिखा है, “ या तो आप गांधी के प्रशंसक हैं या नेताजी के समर्थक हैं। आप दोनों एक साथ नहीं हो सकते हैं… चुनो और फैसला करो।” एक अन्य पोस्ट में रनौत ने दावा किया है, “जिन लोगों ने आजादी के लिए लड़ाई लड़ी उन्हें ऐसे लोगों ने अपने आकाओं को सौंप दिया जिनके पास अपने उत्पीड़कों से लड़ने का साहस नहीं था या जिनका खून नहीं खौलता था बल्कि वे चालाक और सत्ता लोलुप थे।”

 

 कंगना रनौत का महात्मा गांधी पर निशाना, बोली- वो चाहते थे कि भगत सिंह को फांसी हो 

इसके बाद उन्होंने गांधी पर निशाना साधते हुए यहां तक दावा किया कि इस बात के सबूत हैं कि वह चाहते थे कि भगत सिंह को फांसी दी जाए। 34 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा, “ ये वही लोग हैं जिन्होंने हमें सिखाया, अगर कोई आपको थप्पड़ मारे तो एक और थप्पड़ के लिए दूसरा गाल आगे कर दो और इस तरह आपको आजादी मिलेगी। इस तरह से किसी को आज़ादी नहीं मिलती, ऐसे भीख मिल सकती है। अपने नायकों को बुद्धिमानी से चुनें।” अभिनेत्री ने कहा कि यह लोगों को अपने इतिहास और अपने नायकों बारे में जानने समय का है। उन्होंने कहा, “उन सभी को केवल अपनी स्मृति के एक खांचे में रखना और हर साल उन सभी को जन्मदिन की बधाई देना पर्याप्त नहीं है, यह न केवल मूर्खता है, बल्कि अत्यधिक गैर-जिम्मेदार और सतही है।” रनौत को हाल में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्मश्री से नवाज़ा था जिसके दो दिन बाद उन्होंने आज़ादी को लेकर बयान दे दिया। 



<-- ADVERTISEMENT -->

bollywood celebs

Celebs Gossips

Entertainment

Post A Comment:

0 comments: