एक्ट्रेस ने नई कविता में कहा- मेरी राख को गंगा में मत बहाना, मुझे सागर की गहराइयों से डर लगता है - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

एक्ट्रेस ने नई कविता में कहा- मेरी राख को गंगा में मत बहाना, मुझे सागर की गहराइयों से डर लगता है


<-- ADVERTISEMENT -->



कंगना रनोट की मानें तो वे नहीं चाहतीं कि उनकी राख को गंगा में बहाया जाए। 33 साल की एक्ट्रेस ने एक कविता के जरिए अपने भाव सोशल मीडिया पर रखे। उन्होंने अपनी कविता का वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है, "हाइकिंग से प्रेरित होकर नई कविता 'राख' लिखी। जब भी संभव हो , देखें।"

यह है कंगना की कविता

"मेरी राख को गंगा में मत बहाना
हर नदी सागर में जाकर मिलती है
मुझे सागर की गहराइयों से डर लगता है
मैं आसमान को छूना चाहती हूं
मेरी राख को इन पहाड़ों पे बिखेर देना
जब सूरज उगे तो मैं उसे छू सकूं
जब मैं तनहा हूं तो चांद से बातें करूं
मेरी राख को उस क्षितिज पे छोड़ देना।"

कंगना ने फैमिली के साथ हाइकिंग की

कंगना शुक्रवार (25 दिसंबर) को अपनी फैमिली के साथ बर्फीले पहाड़ों के बीच हाइकिंग के लिए पहुंची थी। अपनी इस ट्रिप की कुछ फोटो उन्होंने शनिवार को सोशल मीडिया पर शेयर की, जिनमें उनके साथ उनकी बहन रंगोली, भाभी ऋतु और भतीजे पृथ्वीराज भी दिखाई दे रहे हैं।

##

कंगना ने कैप्शन में लिखा, "मैं कल अपनी फैमिली के साथ हाइकिंग पर गई थी। अद्भुत अनुभव रहा। फोटो के लिए इंस्टाग्राम क्वीन मेरी भाभी का शुक्रिया। वह कैमरा फिल्टर्स के बारे में सब कुछ जानती हैं और मुझे उन्हें यूज करना भी सिखा रही हैं।

'धाकड़' के लिए तैयारी कर रही हैं कंगना

कंगना इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्म 'धाकड़' की शूटिंग के लिए तैयारी कर रही हैं। इस स्पाई थ्रिलर फिल्म में वे फीमेल स्पाई की भूमिका में नजर आएंगी। शुक्रवार को एक्ट्रेस ने फिल्म की तैयारी की कुछ फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की थीं। इनमें वे चेहरे का प्रोस्थेटिक मेजरमेंट देते दिखाई दे रही हैं।

##

कंगना एक अन्य फिल्म 'तेजस' की शूटिंग भी कर रही हैं। इसके अलावा उनकी 'थलाइवी' (जयललिता की बायोपिक) कम्पलीट हो चुकी है, जो अगले साल रिलीज होगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Kangana Ranaut says In Poem 'don't Immerse My Ashes In Ganga'

Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

Entertainment

Post A Comment:

0 comments: