जब बिना सोचे-समझे तेंदुए के समाने कूद पड़े थे धर्मेन्द्र, जानें फिर क्या हुआ था - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

जब बिना सोचे-समझे तेंदुए के समाने कूद पड़े थे धर्मेन्द्र, जानें फिर क्या हुआ था


<-- ADVERTISEMENT -->



नई दिल्ली: When Dharmendra jumped in front of leopard: धर्मेन्द्र बॉलीवुड के सफल अभिनेता रह चुके हैं। उनकी सुन्दरता, उनके काम करने का तरीका और स्टाइल लोगों में चर्चा का विषय था। वहीं, अपनी फिल्मों धर्मेन्द्र स्टंट भी खुद करना पसंद करते थे। आज हम आपको उनका वो स्टंट वाला किस्सा सुना रहे हैं, जिसमें वो अपने जन्मदिन के दिन बिना सोचे-समझे तेंदुए के सामने कूद गए थे। इसके बाद किया हुआ था आइये जानते हैं।

dharmendra4.jpg

सुनाया शुटिंग के दौरान का किस्सा

दरअसल सनी देओल और धर्मेन्द ने अपनी शूटिंग के दौरान एक दूसरे के मजेदार किस्से सुनाए थे। जिसमें धर्मेन्द्र ने बताया था वो कैसे अपने जन्मदिन के दिन ही बिना सोचे-समझे तेंदुए से भीड़ गए थे और उनकी जान पर बन आई थी। वहीं, सनी देओल ने भी बताया कि वह भी एक बार वो भी 11000 फीट की उंचाई से कूद पड़े थे। फिर इसके बारे में पापा को न बताने के लिए सभी से मना कर दिया था। जब ये बात धर्मेन्द को पता चली तो उन्होंने कहा कि ‘ऐसे में जट के गट्स बाहर आ जाते हैं।

ये बात धर्मेन्द्र के जन्मदिन की है

क्योंकि जट लोगों के गट्स ज्यादा काम करते हैं और दिमाग कम। अपना पूरा किस्सा बताते हुए उन्होंने कहा कि मैं भी अपने जन्मदिन के दिन बिना सोचे समझे तेंदुए के सामने चला गया था। तेंदुए का मुंह खुला हुआ था। ये घटना 8 दिसंबर की है, उस दिन मेरा जन्मदिन था।

dharmendra.jpg

पैकअप से पहले सीन करना था

दरअसल शाम को हमें पैकअप करना था, लेकिन उससे पहले तेंदुए वाले सीन को किया जाना था। 14 फुट का एक गड्ढा था उसमें तेंदुआ गिर गया था, ऊपर की तरफ क्रेन पर कैमरा था। जिसके बाद डायरेक्टर बोला- धर्म जी कूद जाओ। ये बात सुनते ही बिना सोचे समझे कूद गया। मेरे पास उस समय एक स्टिक के आलावा कुछ नहीं था।

तेंदुए के मुंह में डाल दी थी स्टिक

मैंने देखा की तेंदुए का मुंह खुला हुआ है, तो मैंने उसके मुंह में वह स्टिक डाल दी और कसकर दोनों हाथों से पकड़ ली थी। वो स्टिक को चबाने लगा, जिसके कारण उसके मुंह से खून निकलने लगा था। मैं भी गाली देकर बोल रहा था जल्दी से पिंजरा फेंको, डर से बोल रहा था कि मैं यहां क्यों आ गया। कुछ देर बाद जैसे ही पिंजरा फेंका तो वो उसमें चला गया।

dharmendra3.jpg

इसके बाद मैं किनारे जाकर बैठ गया और सोचने लगा कि आज मेरा जन्मदिन है, मैं आज सबको पार्टी वार्टी देने वाला था। लेकिन आज तो मेरा ही बर्थडे मन गया था।




<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

Entertainment

Post A Comment:

0 comments: