दिलीप कुमार थे सिनेमा जगत के पहले 'खान', दिग्गज अभिनेता की जिंदगी की प्रेरणादायक कहानी - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

दिलीप कुमार थे सिनेमा जगत के पहले 'खान', दिग्गज अभिनेता की जिंदगी की प्रेरणादायक कहानी


<-- ADVERTISEMENT -->



जाने-माने अभिनेता दिलीप कुमार का लंबी बीमारी के बाद बुधवार सुबह निधन हो गया। उनके परिवार के सदस्यों और उनका इलाज कर रहे चिकित्सकों ने यह जानकारी दी। दिलीप कुमार 98 वर्ष के थे। हिंदी फिल्म जगत में ‘ट्रेजेडी किंग’ के नाम से मशहूर हुए दिलीप कुमार मंगलवार से हिंदुजा अस्पताल की गैर-कोविड गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में भर्ती थे। कुमार का इलाज कर रहे डॉ. जलील पारकर ने कहा, ‘‘लंबी बीमारी के कारण सुबह साढ़े सात बजे उनका निधन हो गया।’’ 
 
दिलीप कुमार का लंबी बीमारी के बाद निधन 
कुमार के पारिवारिक मित्र फैजल फारूकी ने अभिनेता के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘‘भारी मन और बेहद दु:ख के साथ, मैं यह घोषणा कर रहा हूं कि कुछ मिनट पहले हमारे प्यारे दिलीप साहब का निधन हो गया। हम अल्लाह के बंदे हैं और हमें उनके पास ही लौटकर जाना होता है।’’ 
 

इसे भी पढ़ें: मेरठ पहुंचे फिल्म अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, काली नदी क्लीन प्रोजेक्ट में हुए शामिल

  
दिलीप कुमार के निधन से शोक की लहर
अभिनेता दिलीप कुमार के निधन की खबर से पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गयी हैं। खेल, उद्योग, राजनीतिक सहित हर तरफ से अभिनेता के निधन पर अपनी संवेदना दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिलीप कुमार के निधन पर शोक जताया और कहा कि उनका जाना हमारे सांस्कृतिक जगत के लिए नुकसान है। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘दिलीप कुमार जी को सिनेमा जगत के दिग्गज के रूप में याद किया जाएगा। वह एक अद्वितीय प्रतिभा के धनी थे और इस वजह से सभी पीढ़ियों के दर्शकों के चहेते थे। उनका निधन हमारी सांस्कृतिक दुनिया के लिए नुकसान है। उनके परिवार, मित्रों और असंख्य चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनाएं।’’ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार के निधन पर बुधवार को शोक जताते हुए कहा कि वह भारत के हृदय में हमेशा रहेंगे। 
 
 
 

इसे भी पढ़ें: मिर्जापुर की गोलू उर्फ श्वेता त्रिपाठी की जिंदगी के संघर्ष की आठ अनसुनी बातें


 अभिनेता दिलीप कुमार के बारे में

दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर 1922 को उनके परिवार के घर पेशावर, ब्रिटिश भारत के किस्सा ख्वानी बाजार इलाके में हुआ था, जो लाला गुलाम सरवर खान और उनकी पत्नी आयशा बेगम के बारह बच्चों में से एक थे। उनके पिता एक फल व्यापारी थे, जो उस समय पेशावर में और बाद में नासिक के पास देवलाली में बागों के मालिक थे। दिलीप कुमार की स्कूली शिक्षा बार्न्स स्कूल, देवलाली, नासिक में हुई थी। वह उसी धार्मिक रूप से मिश्रित पड़ोस में पले-बढ़े, जहां राज कपूर, उनके बचपन के दोस्त और बाद में फिल्म उद्योग में उनके सहयोगी थे।
 
 
 
दिलीप कुमार का करियर

दिलीप कुमार का असली नाम मोहम्मद यूसुफ खान था। सिनेमा जगत में आने के बाद उन्हें दिलीप कुमार के नाम से जाना जाने लगा। दिलीप कुमार भारतीय अभिनेता, फिल्म निर्माता और परोपकारी व्यक्ति थे, जो हिंदी सिनेमा में अपने शानकाद अभिनय के लिए जाने जाते है। जिस तरह से बॉलीवुड में खान का बोलबाला है उस कड़ी में दिलीप कुमार सिनेमा के सबसे पहले खान है इस लिए उन्हें "द फर्स्ट खान" कहा जाता है। सिनेमा में एक अलग तरह की अभिनय तकनीक लाने का श्रेय दिया गया है। कुमार के पास सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए सर्वाधिक जीत का रिकॉर्ड है और वह इस पुरस्कार के उद्घाटन प्राप्तकर्ता भी थे। हिंदी फिल्मों के सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में गिने जाने वाले दिलीप कुमार ने 1944 में ‘ज्वार भाटा’ फिल्म से अपने कॅरियर की शुरुआत की थी और अपने पांच दशक लंबे कॅरियर में ‘मुगल-ए-आजम’, ‘देवदास’, ‘नया दौर’ तथा ‘राम और श्याम’ जैसी अनेक हिट फिल्में दीं। वह आखिरी बार 1998 में आई फिल्म ‘किला’ में नजर आए थे।
 
 

जब दिलीप कुमार ने लिया था फिल्मों से 5 साल का ब्रेक
1976 में दिलीप कुमार ने फिल्मों से पांच साल का ब्रेक लिया और ब्रेक के बाद 1981 में फिल्म क्रांतिसे वापसी की। इसके बाद उन्होंने  शक्ति,  मशाल, कर्मा, सौदागर जैसी फिल्मों में प्रमुख भूमिका निभाते हुए अपना करियर जारी रखा। दिलीप कुमार का अभिनेत्री मधुबाला के साथ एक लंबा रिश्ता था लेकिन उन्होंने कभी उनसे शादी नहीं की। उन्होंने 1966 में अभिनेत्री सायरा बानो से शादी की। वह भारत में महाराष्ट्र राज्य में मुंबई के एक उपनगर बांद्रा में अपनी पत्नी के साथ रहते थे।
 
  
हिंदी सिनेमा के इतिहास में सबसे महान अभिनेताओं में से एक
दिलीप कुमार को व्यापक रूप से हिंदी सिनेमा के इतिहास में सबसे महान अभिनेताओं में से एक माना जाता है। उनके नाम एक भारतीय अभिनेता द्वारा सबसे अधिक पुरस्कार जीतने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड है। उन्होंने अपने पूरे करियर में कई पुरस्कार प्राप्त किए, जिसमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए आठ फिल्मफेयर पुरस्कार और फिल्मफेयर के लिए एक लाइफटाइम अचीवमेंट और विशेष पहचान फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए उन्हें भारत की कोकिला लता मंगेशकर के साथ फिल्मफेयर पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले प्राप्तकर्ता के रूप में मान्यता दी गई। 
 
 
50वें फिल्मफेयर पुरस्कार समारोह में महानतम हिंदी संगीत निर्देशक नौशाद अली और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फिल्मफेयर में 19 नामांकन के साथ में उन्हें फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया। गंगा जमुना (1961), जिसे उन्होंने लिखा, निर्मित और अभिनीत किया, को हिंदी में दूसरी सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, बोस्टन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में पॉल रेवरे सिल्वर बाउल, चेकोस्लोवाक अकादमी से विशेष सम्मान डिप्लोमा भी मिला। शाहरुख खान समेत कई महान अभिनेता कुमार को अपनी प्रेरणा मानते हैं। कुमार को "ट्रेजेडी किंग" के रूप में भी जाना जाता था।

फिल्म जगत में भी कुमार के निधन से शोक की लहर है। बॉलीवुड मेगास्टार अमिताभ बच्चन ने एक ट्वीट में कहा, "एक संस्था चली गई है।" दिवंगत अभिनेता को श्रद्धांजलि देने और उनकी स्मृति का सम्मान करने के लिए बिग बी प्रशंसकों और साथी बॉलीवुड सितारों के साथ शामिल हुए। अमिताभ बच्चन ने किंवदंती के निधन के बारे में जानने पर दुख व्यक्त करते हुए लिखा, "एक संस्था चली गई .. जब भी भारतीय सिनेमा का इतिहास लिखा जाएगा, वह हमेशा 'दिलीप कुमार से पहले और दिलीप कुमार के बाद' होगा।"


Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

Celebs Gossips

Post A Comment:

0 comments: