Anupama 19th July Written Updates: कैफे के उद्घाटन के दिन भी काव्या ने किया खूब तमाशा, अनुपमा-वनराज को दी चुनौती - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

Anupama 19th July Written Updates: कैफे के उद्घाटन के दिन भी काव्या ने किया खूब तमाशा, अनुपमा-वनराज को दी चुनौती


<-- ADVERTISEMENT -->



नई दिल्ली। अनुपमा और वनराज अपने नए काम की शुरूआत करने जा रहे हैं। जहां एक ओर अनुपमा ने अपनी डांस एकेडमी खोली है। तो वहीं दूसरी ओर वनराज ने कैफे ओपन किया है। दोनों की अपने काम को लेकर काफी उत्साहित हैं। वहीं दूसरी ओर काव्या वनराज के इस फैसले से बिल्कुल भी खुश नहीं है। यही वजह है कि उद्घाटन के दिन भी काव्या तमाशा करने में पीछे नहीं रहती है। जानिए क्या होगा आज रात 'अनुपमा' के लेटेस्ट एपिसोड में।

डांस एकेडमी और कैफे का हुआ उद्घाटन

अनुपमा की डांस एकेडमी और वनराज के कैफे का उद्घाटन किया जाता है। बॉ और बाबू जी रिबन काटते हैं। समर नारियल फोड़ता है। वनराज की बहन को उनका कैफे काफी पसंद आता है। पूरा परिवार अनुमपा और वनराज की नई शुरूआत से काफी खुश हैं।

तोषो को राखी दवे ने दी परिवार से अलग होने की सलाह

राखी दवे तोषो को समझाती है कि कैसे उसके पिता का कैफे उसके लिए धाग है। राखी दवे तोषो को कहती है ये बहुत मायने रखता है कि उसके पिता क्या काम करते हैं। कल के दिन क्या वो अपने दोस्तों को बता पाएगा कि उसके पिता कैफे में सेंडविच बेचते हैं। राखी तोषो को कहती है कि इससे पहले उसकी पत्नी किंचल कैफे में वेटर्स बन जाए इससे पहले ही वो कुछ सोच ले।

यह भी पढ़ें- Anupama 12th July Written Updates: वनराज के फैसले से समर हुआ मां अनुपमा से नाराज़, तोषो-किंचल छोड़ेंगे घर

अनुपमा की मां और वनराज के बीच खत्म हुई दूरियां

काव्या संग वनराज की शादी के बाद से अनुपमा की मां वनराज से नाराज़ है। दोनों के बीच दूरियां आ गई हैं। कैफे देखने आई अनुपमा की मां वनराज से बात नहीं करती हैं। वहीं उद्घाटन के दिन अनुपमा का भाई भावेश नवराज के लिए अचार और मां के हाथों से पीसे मसाले लेकर आता है। जिसे देख वनराज काफी खुश हो जाता है। वनराज भावेश और अनुपमा की मां से कहता है कि उसने उनके साथ इतना गलत किया। लेकिन फिर भी वो उसकी खुशी में शामिल हुए। वनराज अनुपमा की मां को कहता है कि वो बिल्कुल उस जैसी ही हैं।

अनुपमा की मां वनराज से कहती है कि वो नाराज़ थीं, लेकिन जब वो यहां आई और अनुपमा को देखा तो उन्होंने देखा कि उसके दिल में तुम्हें लेकर कोई बात नहीं है। वही देखकर वो वनराज से नाराज नहीं है।

बॉ और बाबू जी हुए बहुत खुश

अनुपमा की डांस एकेडमी और वनराज के कैफे खुलने से बॉ और बाबू जी काफी खुश हैं। बाबू जी कहते हैं कि पहले वनराज उनकी उंगली पकड़कर कारखाने आता था, लेकिन अब से वो खुद इसे चलाएगा। वहीं बॉ भी वार्किंग वुमन बनने से काफी खुश हैं। बॉ बाबू जी से कहती हैं कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वो बाहर जाकर काम करेंगी, लेकिन अनुपमा ने सब कर दिखाया। वहीं बाबू जी भी बॉ की बात को सही ठहराते हुए कहते हैं कि अब उनका बेटा उनके सपने को पूरा करेगा।

राखी दवे ने साधा काव्या पर निशाना

राखी दवे अपनी हरकतों से बाज नहीं आती। वो काव्या को अकेला देख उसके पास जाती है और नौकरी ना होने का ताना मारती है। राखी काव्या को कहती है कि अब उसे नौकरी नहीं ढूंढनी होगी क्योंकि वो कैफे में कई सारे काम कर सकती है। जैसे की ऑर्डर लेना, सब्जियां काटना और बर्तन धोना। राखी दवे काव्या को अनुपमा का अस्टिटेंट बनने की बात भी कहती है।

यह भी पढ़ें- Anupama 9th July Written Updates: नौकरी जाने से बौखलाई काव्या, अनुपमा पर लगाया गंभीर आरोप

जिसे सुनकर काव्या भड़क जाती है। लेकिन राखी दवे फिर भी नहीं रुकती है और कहती है कि अब पूरा दिन वनराज और अनुपमा साथ में रहेंगे। जैसे कि पहले वो वनराज के साथ रहती थी और अनुपमा घर पर रहती थी। तभी काव्या राखी दवे को सलाह देती है कि वो उससे ज्यादा अपनी बेटी किंचल पर ध्यान दें। किंचल को कैफे में सफाई करता देख राखी दवे काफी गुस्सा हो जाती है।

बेटी के बर्ताव से दुखी अनुपमा

पाखी को अकेला खड़ा देख अनुपमा उसके पास जाती है। अनुपमा अपनी बेटी के पास जाती हैं और उनसे पूछती है कि कैफे कैसा लगा? पाखी बताती है कि कैफे छोटा है लेकिन क्यूट है। वहीं अनुपमा पाखी से पूछती है कि उसे डांस एकेडमी कैसी लगी तो पाखी कहती है कि ठीक है। अनुपमा पाखी को कहती है कि उसे जब भी डांस करना चाहे वो यहां आकर कर सकती है। जिसे सुनकर पाखी काफी गुस्से मां को जवाब देती है। जिसे देख नंदनी और समर पाखी को समझाने चले जाते हैं।

पाखी को समझाने पहुंचे समर-नंदनी

समर और नंदनी पाखी के पास जाते हैं और उसे समझाते हैं कि वो मम्मी के साथ काफी बुरा बर्ताव कर रही है। तभी नंदनी भी पाखी को याद दिलाती है कि कैसे काव्या ने उसके साथ बर्ताव किया था। साथ ही नंदनी और समर पाखी को ये भी याद दिलाते हैं कि काव्या ने किंचल भड़काने की कोशिश की थी। वो तो किंचल समझदार थी वो समझ गईं। काव्या ये बात सुन लेती और गुस्सा करते हुए समर-नंदनी पर चिल्लाने लगती है।

कैफे में किया काव्या ने तमाशा

काव्या नंदनी-समर पर चिल्लाती है। काव्या पूरे कैफे के सामने गुस्सा करती है। नंदनी और समर को कहती है कि वो उस पर गलत-गलत इल्जाम ना लगाए। अनुपमा बीच में आकर लड़ाई को सुलझाने की कोशिश करती है, लेकिन काव्या और तेज-तेज चिल्लाने लगती है। कैफे के अंदर एक ग्राहक आता है, लेकिन लड़ाई देख वो वापस चला जाता है। तभी वो चला जाता है। ये देख पूरा परिवार दुखी हो जाता है।

 

अनुपमा बनी वनराज के कैफे की पहली ग्राहक

पहले ग्राहक के जाने से पूरे परिवार को दुखी देख अनुपमा खुद ही पहली ग्राहक बन जाती है। वो एक मसाला चाय ऑर्डर करती है। वनराज अनुपमा के लिए मसाला चाय लेकर आता है। अनुपमा पीते ही कहती है कि उसके कैफे की मसाला चाय बहुत ही अच्छी है बिल्कुल घर जैसी। अनुपमा चाय के पैसे देती है। जिसे देख बॉ कहती है कि अब तो कैफे बहुत तरक्की करेगा। तभी कैफे मे्ं एक और शख्स आता है और सबको लगता है कि कोई ग्राहक आया है। लेकिन वो पता पूछने आता है। अनुपमा और उसका पूरा परिवार ग्राहकों के आने का इंतजार कर रहा होता है।

( Precap- कैफे में ग्राहक लाने के लिए अनुपमा अलग-अलग जगह पर परिवार के सदस्यों को बैठने के लिए कहती है। ताकि भीड़ को देख और ग्राहक भी वहां पहुंच जाए। वहीं काव्या कहती है कि अगर कोई ग्राहक आया तो उसका नाम बदल देना )



Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

Entertainment

Post A Comment:

0 comments: