अगर आप भी है ‘लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप’ में हैं तो इन बातों का जरूर रखें ध्यान - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

अगर आप भी है ‘लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप’ में हैं तो इन बातों का जरूर रखें ध्यान


<-- ADVERTISEMENT -->



 
लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप उस रिश्ते को कहते हैं जिसमें दोनों लोग दो अलग अलग शहरों या देशों में रहते हैं। ऐसे रिश्ते को लेकर आम धारणा ये है कि दूरी की वजह से दो लोग एक दूसरे को उतना वक्त नहीं दे पाते जितना एक रिश्ते को सींचने के लिए जरूरी होता है। ये भी कहा जाता है कि एलडीआर में शक की गुंजाइश ज्यादा होती है, लिहाजा ऐसे रिश्तों की उम्र कम होती है।

# सोशल मीडिया पर किसी के भी फ्रेंड्स का दायरा बहुत बड़ा होता है। इस बात को हमेशा समझें कि रियल लाइफ में आपके जो फ्रेंड हैं, उनसे सोशल मीडिया के फ्रेंड पूरी तरह अलग हैं। रियल लाइफ के आपके फ्रेंड वक्त पड़ने पर आपकी मदद कर सकते हैं, लेकिन ऐसी उम्मीद आप सोशल मीडिया के दोस्तों से नहीं रख सकते। इसकी वजह उनका आपसे दूर होना है।


# जो लोग किसी के साथ लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में रह रहे हैं और फोन व वॉट्सऐप के जरिए प्रेमालाप कर रहे हैं, उन्हें यह देखना चाहिए कि इसके पीछे किसी पार्टनर का कोई स्वार्थ तो नहीं छुपा है। यह स्वार्थ कई तरह का हो सकता है। इस संबंध की आड़ में पार्टनर आपसे आर्थिक मदद या दूसरे कई तरह के फायदे ले सकता है। इसके साथ यह भी हो सकता है कि कथित पार्टनर का मकसद आपसे वास्तविक संबंध बनाना नहीं हो और वह किसी दूसरे के साथ भी अफेयर चला रहा हो।

# अगर कोई सोशल माीडिया पर किसी के साथ दोस्ती कर उससे ऑनलाइन रोमांस शुरू करता है, तो इसका कोई खास मतलब नहीं होता। कुछ ऐसे एग्जाम्पल मिल सकते हैं, जब सोशल मीडिया पर शुरू हुआ प्यार अपने अंजाम तक पहुंचा हो, पर ज्यादातर मामले में यह घटिया मनोरंजन, फ्लर्टिंग और समय की बर्बादी ही होता है। ऐसा करने वाले लोग मानसिक विकृति के भी शिकार हो सकते हैं।


# जो लोग पार्टनर के साथ रियल संबंध नहीं बनाते, उनसे कभी मिलते नहीं और फोन व वॉट्सऐप के जरिए ही रोमांस करते हैं, वे कुछ समय के बाद गहरे मानसिक अवसाद यानी डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं। चिंता और तनाव जैसी समस्या तो अक्सर उसके साथ बनी रह सकती है। ऐसा इसलिए होता है कि संबंधों में उन्हें किसी तरह की संतुष्टि नहीं मिल पाती है। ऐसे संबंधों के दौरान कई लोग वर्चुअल सेक्शुअल रिलेशनशिप भी बनाने लगते हैं, जिसका पर्सनैलिटी पर नेगेटिव असर पड़ता है। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि अगर वर्चुअल रिलेशनशिप लंबे समय तक चलता रहा तो नपुंसकता की समस्या भी पैदा हो सकती है। इसलिए इससे हर हाल में बचना चाहिए।

Loading...

<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

news

Post A Comment:

0 comments: