नवरात्रि में ज्योतिष के इन उपायों को करके देवी मां को जल्दी प्रसन्न किया जा सकता है - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

नवरात्रि में ज्योतिष के इन उपायों को करके देवी मां को जल्दी प्रसन्न किया जा सकता है


<-- ADVERTISEMENT -->




हिंदूओं का पावन नवरात्रों का त्योहार शुरू हो चुका है। ऐसे में लोग देवी दुर्गा के अलग- अलग रूपों की पूजा पूरी श्रद्धा से करते हैं। माना जाता है कि इन पावन दिनों में देवी दुर्गा धरती पर आकर अपने भक्तों को आशीर्वाद देती है। ऐसे में ज्योतिष व वास्तुशास्त्र के अनुसार कुछ उपायों को करने से देवी मां को जल्दी प्रसन्न किया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं उन उपायों को बारे में...

- देवी दुर्गा को लाल रंग अति प्रिय होने से उन्हें लाल रंग के फूल चढ़ाना शुभ होता है। इससे मानसिक व शारीरिक रूप शांति मिलती है। साथ ही घर में सुख- समृद्धि व शांति का वास होता है।

- नवरात्रि के दिनों में दुर्गा सप्तशती का पाठ करने का बहुत ही महत्व होता है। इस पाठ से पूजा में गलती होने पर मांफी मांगने की बात लिखी हुई है। ऐसे में इसका पाठ करके देवी मां से गलतियों की क्षमा मांगी जा सकती है। साथ ही इसतरह आपकी पूजा सफल होगी। 


- किसी भी शुभ काम को करने से पहले प्रथम पूजनीय गणेश जी की आराधना की जाती है। ऐसे में नवरात्रि के दिनों में घर के मेन गेट पर स्वस्तिक चिह्न बनाएं। साथ ही रोजाना उसकी पूजा करें। इससे घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक में बदल जाएगी। सभी परेशानियों का हल हो जीवन में खुशहाली आएगी। साथ ही रूके हुए कार्य जल्दी ही पूरे हो जाएंगे। 

- देवी लक्ष्मी को मां दुर्गा का ही रूप माना जाता है। ऐसे में नवरात्रि के किसी भी एक दिन में मां लक्ष्मी को लाल रंग का गुलाब चढ़ाएं। इससे पैसों से जुड़ी परेशानियां दूर हो कारोबार व नौकरी में तरक्की मिलेगी।


- नवरात्रि के दिनों में पूजा घर पर कमल के फूल पर विराजित देवी लक्ष्मी की तस्वीर लगाएं। इससे देवी दुर्गा और मां लक्ष्मी की कृपा मिलेगी। घर अन्न व धन से संपन्न रहता है। 

- लाल रंग के कपड़े में कौड़ी को बांधकर देवी मां को चढ़ाएं। बाद में उसे उठाकर अपनी तिजोरी या धन रखने वाली जगह पर रख दें। इससे धन से जुड़ी परेशानियां दूर होगी। घर में सुख- शांति भरा माहौल स्थापित होने के साथ रिश्तों में मिठास आएगी। 



<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

FirPost

Offbeat

Post A Comment:

0 comments: