सावधान! ईयरफोन से इतने घंटे तक सुन लिए गाने तो डेड हो जाएंगी कान की नसें! - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

सावधान! ईयरफोन से इतने घंटे तक सुन लिए गाने तो डेड हो जाएंगी कान की नसें!


<-- ADVERTISEMENT -->




 क्या आप ईयरफोन यूज करते हैं? आपने कई युवाओं को देखा होगा, जो लगातार कानों में ईयरफोन लगाए रहते हैं। ईयरफोन यूज करना गलत नहीं है, लेकिन लगातार घंटो इसका इस्तेमाल करना काफी नुकसानदायक हो सकता है। पिछले कुछ सालों में ईयरफोन के कारण कान खराब होने के मामले और सड़क दुर्घटनाएं बढ़ गई हैं। हाल के वर्षों में यह एक गंभीर समस्या के रूप में सामने आया है।

50 फीसदी युवाओं में कान की समस्या का कारण ईयरफोन का लगातार इस्तेमाल करना है। ईयरफोन्स के लगातार इस्तेमाल से कान में दर्द, सिर दर्द, अनिंद्रा जैसी समस्याएं आम बात है। पूर्वोत्तर दिल्ली में ईयर स्पेशलिस्ट डॉ ए वहाब ने हमें बताया कि ईयरफोन्स के लगातार इस्तेमाल से हमारी सुनने की क्षमता 40 डेसीबल तक कम हो जाती है।


डॉ वहाब आगे बताते हैं कि लगातार ईयरफोन इस्तेमाल करने से कान का पर्दा वाइब्रेट होने लगता है और इसके खराब होने की संभावना रहती है। कान में छन-छन की आवाज आना, चक्कर आना, सनसनाहट वगैरह इससे होने वाली समस्याएं हैं। खासकर दूर की आवाज सुनने में लोगों को परेशानी होने लगती है और यहां तक कि इससे बहरापन भी हो सकता है।

आपकी सेहत पर ईयरफोन्स की वॉल्यूम और गाने सुनने के टाइम असर होता है। ईयरफोन्स छोटे होते हैं और आपके कानों में आसानी से फिट हो जाते हैं, लेकिन फिर भी इससे बाहर की आवाज रुकती नहीं है। ऐसे में जब आप बाहर की आवाज नहीं सुनना चाहते और ईयरफोन्स की वॉल्यूम तेज कर देते हैं। यह आपके लिए बेहद खतरनाक है। ऐसा एक रिसर्च में भी सामने आ चुका है।


तेज आवाज में संगीत सुनने से मानसिक समस्याएं हो सकती हैं, जबकि हृदय रोग और कैंसर के भी चांसेस बढ़ते हैं। ईयरफोन्स में 100 डीबी तक आवाज आ सकती है जो आपके कान को डेमैज करने के लिए काफी है। आमतौर पर कान 65 डेसिबल की आवाज सह सकता है, जबकि 85 डेसिबल से अधिक आवाज कानों के लिए खतरा है। ईयरफोन पर अगर अगर 40 घंटे से ज्यादा 90 डेसिबल की ध्वनि सुनी जाए तो कान की नसें पूरी तरह डेड हो जाती हैं।

डॉ वहाब ईयरफोन का कम से कम इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। वे कहते हैं कि अगर जरूरी काम से ईयरफोन का घंटों इस्तेमाल करना है तो हर एक घंटे के गैप पर कम से कम 5 मिनट का ब्रेक लें। ईयरबड की अपेक्षा ईयरफोन्स का इस्तेमाल बेहतर है, क्योंकि ये कान के बाहर लगे होते हैं। वे अच्छी कंपनी के ईयरफोन्स इस्तेमाल करने पर भी जोर देते हैं।



<-- ADVERTISEMENT -->

AutoDesk

FirPost

Offbeat

Post A Comment:

0 comments: