शास्त्रों के मुताबिक ऐसे मरने वालों की आत्माएं हमेशा भटकती रहती है - BackToBollywood

Popular Posts

Blog Archive

Search This Blog

शास्त्रों के मुताबिक ऐसे मरने वालों की आत्माएं हमेशा भटकती रहती है

शास्त्रों के मुताबिक ऐसे मरने वालों की आत्माएं हमेशा भटकती रहती है. Bhoot pret kaun bantey hai.

<-- ADVERTISEMENT -->



aesey log bantey hai bhoot

शास्त्रों के मुताबिक ऐसे मरने वालों की आत्माएं हमेशा भटकती रहती है

Bhatakti aatma- हर इंसान अपने जीवन में आ रही समस्याओं से परेशान होता है कुछ लोग इन सारी समस्याओं से लड़ जाते हैं तो कुछ लोग खुद ही बिखर जाते हैं। जीवन में परेशानी कैसी भी हो सकती है? अब चाहे वह छोटी हो या बड़ी, समाधान हर समस्या का होता है। इस संसार में ऐसी कोई भी समस्या नहीं है जिसका समाधान न हो। लेकिन अक्सर लोग इन समस्याओं से लड़ने की बजाए खुद ही परेशान हो जाते हैं और इतने ज्यादा परेशान हो जाते है कि खुद को ही खत्म करना समस्या का समाधान समझने लगते हैं। जी हां परेशान होकर कुछ लोग आत्महत्या कर बैठते हैं जो कि सरासर गलत होता है। क्या आप जानते हैं जो लोग आत्महत्या कर लेते हैं उनके साथ मरने के बाद क्या होता है आज यहां पर हम आपको शास्त्रों के मुताबिक कुछ ऐसे ही विषय पर बताने जा रहे हैं जिसे पढ़ने के बाद आप भी अपने मन से यह विचार निकालकर समस्या के समाधान में लग जाएंगे।

aesey log bantey hai bhoot

आत्महत्या करके लोग प्रकृति के विपरीत कदम उठाते है। इंसान की मृत्यु होना स्वाभाविक प्रक्रिया है लेकिन उसका एक निर्धारित समय होता है बस जाने का तरीका अलग-अलग होता है लेकिन जो लोग इस नियम के विपरीत जाकर समय से पहले ही अपनी मृत्यु निर्धारित करते है उन्हें भला मुक्ति कैसे मिल सकती है?

आत्महत्या के बाद आत्मा अधर में लटक जाती है ना तो वो स्वर्ग या नरक जा पाती है और ना ही वह जीवन में वापस आ पाती है। बस भटकती रहती है ऐसे में वह अतृप्त होती जाती है वह तब तक अपने स्थान पर नहीं जाती जब तक उसका समय नहीं हो जाता है। मानव जीवन के कुल सात चरण होते है।

aesey log bantey hai bhoot

जिन्हें पूरा करने पर स्वतः ही इंसान की मृत्यु हो जाती है ऐसे में प्रक्रिया पूरी होने से पहले ही मृत्यु हो जाने से वो प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाती और जब तक वह पूरी नहीं होती, आत्मा यूँ ही अकेली भटकती रहती है और जीवन में वापिस जाने की लालसा और अपनी ख्वाशिओं के अधुरेपन के दुखों से कष्टों में रहती है और अपने परिजनों को भी परेशान करती है।


<-- ADVERTISEMENT -->

Offbeat

Post A Comment:

0 comments: